डीजल, कोयले से चल रहे उद्योगों पर बंदी की तलवार

डीजल, कोयले से चल रहे उद्योगों पर बंदी की तलवार

प्रदूषण बोर्ड ने 15 अगस्त तक दिया पीएनजी कनेक्शन का समय

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने कोयला, डीजल व बायोमाश से चलने दिल्ली वाले उद्योगों को 15 अगस्त तक पाइप्ड नेचुरल गैस (पीएनजी) कनेक्शन लेने के आदेश दिए हैं। उपलब्धता की स्थिति में तय समय सीमा में कनेक्शन न लेने वाले उद्योगों को बंद करने के आदेश दिए हैं। उधर, उद्यमियों का कहना है कि गैस उपलब्धता न होने व तय समय सीमा में कनेक्शन देने को लेकर कंपनियों ने असमर्थता जताई है।

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) के तहत गाजियाबाद, गौतमबुद्ध नगर, हापुड़, बुलंदशहर, मेरठ, बागपत, मुजफ्फरनगर व शामली के उद्योगों में जहां पीएनजी उपलब्ध हैं। उक्त सभी जनपदों में केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आदेश पर उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने ऐसे सभी उद्योगों को पीएनजी कनेक्शन लेने के निर्देश दिए हैं।

ऐसा न करने वाले उद्योगों पर बंदी की तलवार लटक गई है। जनपद गाजियाबाद में ऐसे करीब 180 उद्योग हैं, जो इस आदेश के बाद प्रभावित होंगे। उधर गैस कंपनी की सभी औद्योगिक क्षेत्रों में पाइपलाइन नहीं है। वहीं, पाइपलाइन की उपलब्धता के बावजूद भी कंपनी ने उद्योगों को तय समय सीमा में गैस मुहैया कराने में असमर्थता जताई है। इस आदेश के बाद ऐसे उद्यमियों के लिए मुश्किल खड़ी हो गई है, जिनके उद्योग कोयला, धान की भूसी, डीजल से चल रहे हैं। अधिकारियों ने निर्देश दिया कि जल्द से जल्द वह पीएनजी कनेक्शन लें नहीं तो कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़े-

स्टार्ट-अप कंपनियों को सीबीडीटी से बड़ी राहत, जानने के लिए लिंक पे क्लिक करे http://uvindianews.com/news/big-relief-to-start-up-companies-from-cbdt

आपकी राय !

क्या जम्मू कश्मीर के निवासी धारा 370 और 35 A के हटने के बाद अपने को भारत का अविभाज्य अंग मान रहे हैं ?

मौसम