EPFO ने निकासी के नियमों में किया बदलाव, आप पर भी पड़ सकता है असर

Dec 03, 2018

EPFO ने निकासी के नियमों में किया बदलाव, आप पर भी पड़ सकता है असर

नई दिल्ली: 

  1. जरूरत के हिसाब से ईपीएफओ नियम बदलता रहता है
  2. फरवही ने ईपीएफओ ने निकासी के नियम बदले थे
  3. अब फिर कुछ बदलने नियम वापस लिए.

 रिटायरमेंट से जुड़े कर्मचारियों के फंड की रखरखाव करने वाली संस्ता ईपीएफओ यानी कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने हाल ही में अपने कुछ नियमों में बदलाव किया है. यह बदलाव 10 लाख रुपये या इससे अधिक के पीएफ खाताधारकों से संबंधित है. बदले गए नियम के अनुसार ईपीएफओ का कहना है कि ज्यादा रकम निकालने के लिए एक फॉर्म भरना होगा. यह नियम 13 अप्रैल से लागू किया गया है. इससे पहले संगठन ने भविष्य निधि से 10 लाख रुपये से अधिक की निकासी को ऑनलाइन दावा करना अनिवार्य कर दिया था.

यह भी पढ़े

आॅफिसर सिटी-2 के मालिक सुधन रावत धमकी देकर खरीददारों को कराना चाहते हैं चुप फ्लैट खरीददार दर दर भटकने को मजबूर,जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे http://uvindianews.com/news/shoppers-city-2-owner-shadan-rawat-threatens-buyers-for-wanting-to-get-rid-of-flat-flat-buyers-rate-rates

गौरतलब है कि खाताधारकों को पीएफ (PF) अंशधारकों के लिए ईपीएफओ (EPFO) द्वारा समय समय पर जारी किए जाने वाले निर्देश और नियमों में बदलावों से अवगत रहना बहुत जरूरी होता है. इससे समय पड़ने पर दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ता. बता दें कि फरवरी के आखिरी सप्ताह में कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने भविष्य निधि से 10 लाख रुपये से अधिक की निकासी को ऑनलाइन दावा करना अनिवार्य कर दिया था. ईपीएफओ द्वारा खुद को कागजरहित संगठन बनाने की दिशा में यह एक और कदम उठाया गया था. माना जा रहा है कि इससे हाल फिलहाल में कुछ समस्या आई जिसकी वजह से इतनी जल्दी इस नियम में बदलाव किया गया है. 

यह भी पढ़े

स्टार्टअप को 25 करोड़ तक के निवेश पर एंजेल टैक्स नही,जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे http://uvindianews.com/news/no-tax-on-startup-of-angle-tax-till-25-crores


पीएफ अकांउट के पांच फायदे, जो आपको अब तक नहीं पता होंगे..

इसके अलावा ईपीएफओ ने कर्मचारी पेंशन योजना (EPS) 1995 से पांच लाख रुपये से अधिक की निकासी के लिए भी ऑनलाइन आवेदन अनिवार्य कर दिया था. पेंशन योजना के तहत, पेंशन की आंशिक राशि की निकासी का प्रावधान है. इसे पेंशन के पैसे का रूपान्तरण कहा जाता है. फिलहाल ईपीएफओ अंशधारकों को ऑनलाइन के साथ मैनुअल तरीके से भी दावा दाखिल करने की अनुमति है.

एक अधिकारी ने बताया कि केंद्रीय भविष्य निधि आयुक्त की अध्यक्षता में 17 जनवरी, 2018 को हुई बैठक में यह फैसला किया गया. अधिकारी ने कहा कि फील्ड कार्यालयों को कहा गया है कि यदि पीएफ से निकासी की राशि 10 लाख रुपये से अधिक है, तो दावा सिर्फ ऑनलाइन स्वीकार किया जाना चाहिए. इसी तरह कर्मचारी पेंशन योजना में निकासी राशि पांच लाख रुपये से अधिक होने पर सिर्फ ऑनलाइन दावा ही स्वीकार किया जाए.

यह भी पढ़े

ईएसआइसी की रिकवरी के खिलाफ नगर निगम कोर्ट में जल्द अपील दायर की जाएगी नगर आयुक्त,जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे http://uvindianews.com/news/municipal-corporations-court-will-soon-file-an-appeal-against-the-recovery-of-esic-municipal-commissioner

ऑनलाइन दावा करने से पहले अंशधारक के बैंक खाते को प्रणाली से जोड़ा और सत्यापित किया जाना चाहिए. ईपीएफओ के अंशधारकों की संख्या छह करोड़ से अधिक है. यह 10 लाख करोड़ रुपये से अधिक के कोष का प्रबंधन करता है.

आपकी राय !

क्या आपको लगता है कि यह मंदी ज्यादातर मोदी सरकार के नियंत्रण से परे कारकों के कारण है?

मौसम