सीटू व जनवादी महिला समिति ने महिलाओं की मांगों /समस्याओं को लेकर उपश्रमायुक्त कार्यालय नोएडा पर प्रदर्शन कर सौपा ज्ञापन

Mar 09, 2019


सीटू व जनवादी महिला समिति ने महिलाओं की मांगों /समस्याओं को लेकर उपश्रमायुक्त कार्यालय नोएडा पर प्रदर्शन कर सौपा ज्ञापन

नोएडा, 8 मार्च 2019 अन्तराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर सीटू व अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति और कामगार महिला समिति सीटू के कार्यकर्ताओं ने बांसबली मार्किट सैक्टर-8 नोएडा तिराहे से जलूश निकालकर उपश्रम आयुक्त कार्यालय सैक्टर-3, नोएडा पर प्रदर्शन कर महिलाओं की मांगों/समस्याओं का ज्ञापन प्रधानमंत्री भारत सरकार एवं मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश सरकार को सम्बोधित ज्ञापन उपश्रमायुक्त श्री पी0के0 सिहं को सोपाl
प्रदर्शन कारियों को सम्बोधित करते हुए सीटू गौतमबुद्धनगर जिलाध्यक्ष गंगेश्वर दत्त शर्मा ने कहा कि 8 मार्च अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस आज पूरी दुनिया में मानया जाता है। इस दिन को मानने के पीछे इतिहास में कामगार महिलाओं द्वारा श्रमिकों के साथ संगठित होकर अपनी न्यूनतम वेतन, काम 8 घंन्टे, महिलाओं के लिए वोट का अधिकार जैसी
मांगों को हासिल करने का लम्बा संधर्ष है। कामगार महिलाओं के मान-सम्मानए हर क्षेत्र में बराबरी के हक के लिए व अन्य मांगों के समर्थन में आज भी ये संधर्ष आज भी जारी है। लेकिन जमीनी स्तर पर देखने को मिलता है पुरूष व महिला कामगारों के बीच वेतन भुगतान में भेदभाव जारी है। समान काम समान वेतन लागू नहीं है।

यह भी पढ़े -

एक माह के अंदर सेफ्टीआॅडिट कराए कारखाना प्रबंधक,जानने के लिए लिंक पे क्लिक करे http://uvindianews.com/news/safety-audit-factory-manager-within-a-month

यहां तक  कि सरकारी संस्थानों में भी महिलाओं के लिए अलग से शौचालय नहीं है। सारे सरकारी संस्थानों में यौन उत्पीड़न निवारण कमेटियों का गठन अभी तक नहीं किया गया है। तो निजी संस्थानों में इस कमेटी का गठन तो दूर की कोड़ी है। जो महिला कामगार घरों में झाडू, पोंछा, वर्तन, सफाई कपड़े धोने का काम करती है व धरों में बिंदी चिपकाना, पापड बेलना का काम करती है इत्यादि का ना तो उनका न्यूनतम वेतन निर्धारित है और न ही उनके लिए बुढ़ापे पेंशन का कोई प्रबंधन है। आईएलओ की एक रिपोर्ट के अनुसार भारत में बहुसंख्यक महिलाआयें अपने घरों और बच्चों की देखभाल करने के अवैतनिक कार्य में लगी है। जिनके  श्रम को श्रम के रूप में मान्यता नहीं मिलती है इन्हें बहुत कम वेतन या प्रोत्साहन राशि दी जाती है।

यह भी पढ़े -

स्टार्टअप को 25 करोड़ तक के निवेश पर एंजेल टैक्स नही, जानने के लिए लिंक पे क्लिक करे http://uvindianews.com/news/no-tax-on-startup-of-angle-tax-till-25-crores
जनवादी महिला समिति की जिला सचिव आशा यादव ने कामगार, घरेलू महिलाओं व छात्राओं पर हो रहे लगातार कुं्ररतापूर्ण हमलों व उन पर हो रही यौन उत्पीड़न की घटनाओं को रेखाकित किया और उन्होंने सरकार से इन घटनाओं रोक लगाने के लिए ठोस कदम उठाने की मांग किया। कामगार महिला समिति सीटू की नेता इशरतजहां ने कहा कि महिलाओं के अधिकारों के लिए लड़े गये संषर्धो को याद करने और अपने अपने अधिकारों के लिए संधर्ष के लिए संकल्प दोहराने का भी दिन है। जनवादी महिला की जिलाध्यक्ष चन्दा बेगम ने महिलाओं के साथ भेदभाव, उत्याचार दहेज, छेड़छाड़ यौन शोषण की घटनाओं से मुक्ति पाने और अपने व अपने बच्चों के हक और उनकी बेहतर जिन्दगी बनाने के संषर्ष को जारी रखने के संकल्प को दोहराया प्रदर्शनकारियों को महिलाओं समिति की नेता गीता, किरण, निर्मला देवी, बसन्ती, मीना, सुनीता, लता सिंह, ममता, राठौर, सीटू नेता, मुकेश राधव, भरत डेंजर, रामस्वारथ, रामसागर, पिकी, मदन प्रसाद, भीखू प्रसाद आदि ने सम्बोधित किया।   

आपकी राय !

आपको क्या लगता है कि इस महीने COVID -19 के संबंध में क्या होगा ?

मौसम