स्वतंत्रता सेनानी ने फांसी पर लटकाकर मौत की सज़ा देने की संवैधानिक वैधता को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी

Feb 11, 2020

स्वतंत्रता सेनानी ने फांसी पर लटकाकर मौत की सज़ा देने की संवैधानिक वैधता को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी

निर्भया कांड में चार दोषियों को फांसी की सजा देने की संभावना के बीच सुप्रीम कोर्ट में एक 88 वर्षीय स्वतंत्रता सेनानी द्वारा एक रिट याचिका दायर की गई है जिसमें मौत की सजा देने के लिए फांसी पर लटकाने की संवैधानिक वैधता को चुनौती दी गई है। एस परमेश्वरम नमपोथरी नामक स्वतंत्रता सेनानी द्वारा दायर याचिका में दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 354 (5) को चुनौती दी गई है। इस धारा में कहा गया है कि जब किसी भी व्यक्ति को मौत की सजा दी जाती है, तो उसे तब तक गर्दन से लटकाए रखा जाए जब तक वह मर नहीं जाता। दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 354 (5) कहती है कि " जब किसी व्यक्ति को मृत्यु का दण्डादेश दिया जाता है तो वह इस प्रकार दिया जाएगा कि उसे गर्दन में फांसी लगाकर तब तक लटकाया जाए जब तक उसकी मृत्यु न हो जाए।" केरल के निवासी याचिकाकर्ता के अनुसार, यह प्रावधान भारत के संविधान की मूल संरचना और विशेषताओं के विरोध में है। उन्होंने याचिका में कहा कि "क्या दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 354 (5) के तहत अनुपालन संभव है, जबकि एक दोषी को सजा से पहले किसी विशेष अवधि के लिए कारावास की सजा से गुजरना पड़ता है और दोषी मानते हुए उसे फांसी देते हुए तब तक गर्दन से लटकाया जाता है, जब तक कि वह मर न जाए। इसके बाद भी उसका शरीर लटकता रहता है जिसके परिणामस्वरूप शरीर का अनादर होता है और इस प्रकार यह सज़ा द कोड ऑफ क्रिमिनल प्रोसीजर, 1973 में धारा 354 (5) के दायरे बाहर हो जाती है। " याचिका में आगे कहा गया है, "क्या दोषी को फांसी देने वाला व्यक्ति सरकारी कर्तव्य कर रहा है या किसी व्यक्ति की हत्या कर रहा है? क्या राज्य किसी व्यक्ति को कर्तव्य निर्वहन में किसी अन्य व्यक्ति को मृत्यु देने का अधिकार दे सकता है? क्या राज्य के पास किसी को ऐसा अधिकार देने की शक्ति है?" यदि हां तो वह विशेष प्रावधान क्या है जो किसी व्यक्ति को मृत्यु को प्रशासित करने का अधिकार देता है, विशेष रूप से जब "जीवन का अधिकार" संविधान में ऊपर है और हर "मैं" "हम" का एक हिस्सा है और राज्य के लिए किसी भी परिस्थिति में किसी व्यक्ति को मारना निषिद्ध है ? " एडवोकेट विल्स मैथ्यू के माध्यम से दायर याचिका में मृत्युदंड के खिलाफ दलीलें भी हैं। यह तर्क दिया गया है कि मृत्यु दंड में निवारक प्रभाव का अभाव है और यह कि जब वह जीवन नहीं दे सकता है तो राज्य के पास मानव जीवन छीनने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है। "ऐसे समय में जब यह वैज्ञानिक रूप से साबित हो गया है कि किसी व्यक्ति का डीएनए प्रोफ़ाइल एक संत या अपराधी बनने के लिए बहुत मायने रखता है, क्या किसी व्यक्ति को उसके नियंत्रण से बाहर कारणों से मारा जा सकता है", याचिकाकर्ता ने याचिका में पूछा। याचिका इस प्रकार धारा 354 (5) को समाप्त करने का अनुरोध करती है, क्योंकि संविधान में यह अति आवश्यक है। जगमोहन सिंह बनाम उत्तर प्रदेश राज्य AIR 1973, SC 947 मामले में सुप्रीम कोर्ट की पांच-न्यायाधीश पीठ द्वारा मृत्युदंड की संवैधानिक वैधता को बरकरार रखा गया था।।

यह भी पढ़े-

नोएडा / हल्दीराम के प्लांट में गैस पाइप लाइन फटने से अमोनिया गैस का रिसाव, आसपास का इलाका खाली कराया गया जानने के लिए लिंक पे क्लिक करे http://uvindianews.com/news/ammonia-gas-leak-due-to-gas-pipeline-explosion-at-noida-haldiram-plant-evacuating-surrounding-area

 

आपकी राय !

क्या आपको लगता है कि यह मंदी ज्यादातर मोदी सरकार के नियंत्रण से परे कारकों के कारण है?

मौसम