हाथ जोड़ते रहे शिवसेना नेता लेकिन नहीं रुका तलवार बाज, करता रहा वार पर वार, VIDEO

Jul 05, 2024

शुक्रवार सुबह संदीप थापर गोरा अपने गनमैन के साथ सिविल अस्पताल में चल रहे सेंसना ट्रस्ट के प्रधान रविंदर अरोड़ा के वार्षिकोत्सव कार्यक्रम में आए. जैसे ही वे बाहर निकले तो चार निहंग वेशधारी युवकों ने उन पर तेजधार हथियारों से हमला कर दिया. संदीप थापर पर हमले के बाद शिव सेना पंजाब ने विरोध प्रदर्शन किया और आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की.

शिव सेना पंजाब के नेता संदीप थापर अपने बयानों को लेकर सुर्खियों में रहते हैं. आज उन पर सिविल अस्पताल के बाहर कुछ अज्ञात लोगों ने हमला कर दिया. निहंगों के भेष में आए चारों आरोपियों ने उन पर धारदार हथियारों से हमला कर दिया. जिसके बाद उन्हें गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

मिली जानकारी के मुताबिक शुक्रवार सुबह संदीप थापर गोरा अपने गनमैन के साथ सिविल अस्पताल में चल रहे सेंसना ट्रस्ट के प्रधान रविंदर अरोड़ा के वार्षिकोत्सव कार्यक्रम में आए. जैसे ही वे झुककर बाहर निकले तो चार निहंग वेशधारी युवकों ने उन पर तेजधार हथियारों से हमला कर दिया. जानकारी के मुताबिक, पीड़ित संदीप थापर शहीद सुखदेव के परिवार से हैं. जिन्होंने शहीद भगत सिंह के साथ अपनी शहादत दी.

गनमैन पर गंभीर आरोप

जब निहंगों ने शिवसेना नेता पर हमला किया तब उनका गनमैन मूकदर्शक बनकर खड़ा रहा और उसने उन्हें बचाने की कोई कोशिश नहीं की. गोरा को लहूलुहान हालत में सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां से उसे रेफर कर दिया गया. उनकी हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

शिव सेना ने किया विरोध

संदीप थापर पर हमले के बाद शिव सेना पंजाब ने विरोध प्रदर्शन किया और आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की. जानकारी के मुताबिक थापर अकसर खालिस्तान के खिलाफ बयान देते हैं. इसके अलावा उन्होंने पंजाब में किसान आंदोलन के खिलाफ भी बयान दिए थे. जिस समय हमला हुआ उस समय थापर के साथ उनका गनमैन भी मौजूद था. हालांकि उसका कहना है कि निहंगों ने उसे पकड़ लिया और उसका हथियार छीनने की भी कोशिश की. थापर के समर्थकों का कहना था कि लंबे समय से उन्हें धमकी मिल रही थी इसके बाद उन्हें केवल एक गनमैन दिया गया था.

घटना के वक्त आसपास कई लोग खड़े थे. हालांकि, किसी की भी आरोपी के पास जाने की हिम्मत नहीं हुई. शिवसेना नेता पर हमले का एक वीडियो भी सामने आया है. जो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इस वीडियो में निहंग सिख के भेष में हमलावर शिव सेना टकसाली नेता संदीप थापर उर्फ ​​गोरा पर हमला करते नजर आ रहे हैं.

कौन थे अमर शहीद सुखदेव?

अमर शहीद सुखदेव का पूरा नाम सुखदेव थापर था. वे भारत के महान क्रांतिकारियों में एक थे. जब जलियांबाग हत्याकांड के बाद विरोध प्रदर्शन निकालने पर अंग्रेजों ने लाला लाजपत राय पर लाठियां बरसा दी थीं, जिससे उनकी मौत हो गई थी. इसके बाद सुखदेव ने भगत सिंह और राजगुरु के साथ अंग्रेज अधिकारी सांडर्स का वध करके इस घटना का बदला लिया था. इसके बाद वे पकड़े थे लेकिन कभी उन्होंने माफी नहीं मांगी. 23 मार्च 1931 को सुखदेव थापर ने भगत सिंह और राजगुरु के साथ हंसते- हंसते लाहौर जेल में फांसी के फंदे पर चढ़ गए थे.

आपकी राय !

Gujaraat में अबकी बार किसकी सरकार?

मौसम