बिल्डर के दिवालिया होने पर नहीं डूबेगी खरीदारों की रकम

Aug 13, 2019

बिल्डर के दिवालिया होने पर नहीं डूबेगी खरीदारों की रकम

घर खरीदारों को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। कोर्ट ने इन्सॉल्वेंसी एंड बैंक्रप्सी कोड (आइबीसी) में संशोधन वाले कानून को सही ठहराते हुए घर खरीदारों को वित्तीय कर्जदाता का मिला दर्जा बरकरार रखा है। इसका मतलब यह है कि अगर कोई रियल एस्टेट कंपनी खुद को दिवालिया घोषित करती या होती है, तो उसकी संपत्ति की नीलामी से हासिल रकम में घर खरीददारों को भी हिस्सा मिलेगा।

आइबीसी में संशोधन कायम रहने से मकान ग्राहकों को भी कंपनी के फाइनेंशियल क्रेडिटर्स यानी वित्तीय कर्जदाता के बराबर का दर्जा बरकरार रहेगा। यानी घर खरीदने वालों की अहमियत बिल्डर को लोन देने वाले बैंकों के बराबर होगी।

इस कानून के खिलाफ 180 से ज्यादा रियल एस्टेट कंपनियों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। सुप्रीम कोर्ट ने यह याचिका शुक्रवार को खारिज कर दी। कोर्ट ने स्पष्ट किया है कि जहां कहीं भी रियल एस्टेट रेगुलेटरी एक्ट यानी रेरा और आइबीसी की किन्हीं धाराओं में आपसी विवाद की स्थिति पैदा होगी, वहां आइबीसी के नियम मान्य होंगे।

अब यह होगा: अब मकान खरीदारों को प्रोजेक्ट पूरा न होने की स्थिति में राहत मिलेगी। ऐसे मामलों में उन्हें दिए गए बैंकों के बराबर अधिकार बरकरार रखा गया है। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद घर खरीदार भी किसी बिल्डर के खिलाफ दिवालिया प्रक्रिया की मांग कर सकते हैं।

यह भी पढ़े-

एक होटल ने दो उबले अंडों की कीमत1700 रु. वसूली, जानने के लिए लिंक पे क्लिक करे http://uvindianews.com/news/a-hotel-costs-two-boiled-eggs-at-rs-1700-recovery

याचिकाओं की सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति आरएफ नरीमन ने कहा कि इस संशोधन से मकान ग्राहकों को एक और प्लेटफॉर्म मिला है, जहां वे रियल एस्टेट कंपनियों के खिलाफ अपनी मुश्किलें रख सकते हैं। हालांकि बेंच ने कहा कि केवल वास्तविक खरीदार ही बिल्डर के खिलाफ दिवालिया प्रक्रिया की मांग कर सकता है।

सरकार को निर्देश: सर्वोच्च अदालत ने केंद्र सरकार को भी सुधार के उपायों पर एक हलफनामा दायर करने को कहा है। सरकार को यह निर्देश भी दिया गया है कि वह ह्यनेशनल कंपनी लॉ टिब्यूनलह्ण़ और अपील टिब्यूनल की खाली पद जल्द भरे, ताकि काम सही ढंग से हो सके।

कई कंपनियों में फंसा है पैसा: देशभर में कई रियल एस्टेट कंपनियां ऐसी हैं जिन्होंने लोगों को मकान देने का वादा तो किया, लेकिन बीच राह में हाथ खड़े कर दिए। ऐसी कंपनियां खुद को नुकसान में बताकर दिवालिया घोषित हो गईं। ऐसी स्थिति में कंपनियों और उनके मालिकों की संपत्तियां जब्त की जाती हैं।

पहले जब्त की गई संपत्ति का पूरा पैसा बैंकों को मिलता था, लेकिन अब घर खरीदने वाले लोगों को भी इसमें से हिस्सा दिया जाएगा। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने रियल एस्टेट कंपनी आम्रपाली के ग्राहकों को बड़ी राहत दी थी। कोर्ट ने आम्रपाली मामले में फैसला सुनाया है कि अब एनबीसीसी घर बनाकर देगी।

यह भी पढ़े-

सात घंटे में एक ही जगह से बंटे 66 हजार पौधे, जानने के लिए लिंक पे क्लिक करे http://uvindianews.com/news/66-thousand-saplings-distributed-from-one-place-in-seven-hours

आपकी राय !

क्या आपको लगता है कि यह मंदी ज्यादातर मोदी सरकार के नियंत्रण से परे कारकों के कारण है?

मौसम