उड़ान का संकट-सत्येन्द्र सिंह-Satendra Singh

Mar 27, 2019

उड़ान का संकट

भारत का विमानन क्षेत्र ऐसे वक्त में संकटों का सामना कर रहा है जब हवाई यात्रा करने वालों की संख्या में वृद्धि का दावा किया जा रहा है, कई शहरों के बीच उड़ान शुरू करने की तैयारी है और नए हवाई अड्डे बनाने की दिशा में काम चल रहा है। ऐसे में विमानन कंपनियों से हर कोई यह उम्मीद करता है कि वे और बेहतर सेवा प्रदान करें। लेकिन हकीकत में ऐसा हो नहीं रहा। ऊंचाइयां छूने के बजाय भारत की विमानन कंपनियां गर्त में जा रही हैं। कई विमानन कंपनियों की माली हालत बता रही है कि आने वाले दिन इनके लिए संकटपूर्ण हैं और हवाई यात्रा करने वालों के लिए निराशाजनक।

यह भी पढ़े -

प्रधानमंत्री का अहम ऐलान, कहा - एंटी सेटेलाइट का परीक्षण सफल रहा,जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक http://uvindianews.com/news/prime-ministers-key-announcement-said-the-trial-of-anti-satellites-was-successful

ताजा उदाहरण निजी क्षेत्र की कंपनी जेट एअरवेज का है। यह कंपनी गहरे आर्थिक संकट में फंस चुकी है और इसके आधे से ज्यादा विमान खड़े हो गए हैं। एक सौ उन्नीस में से सिर्फ इकतालीस विमान उड़ान पर हैं। कंपनी ने जिन विमानों को लीज पर लिया था, उनका किराया चुकाने तक के पैसे नहीं हैं। एक हजार से ज्यादा पायलटों और इंजीनियरों को कई महीने से वेतन नहीं मिल रहा है। इसलिए अब पायलटों ने एक अप्रैल से काम बंद करने की धमकी दे डाली है। हालात इतने विकट हैं कि जेट एअरवेज और नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) के हाथ-पैर फूले पड़े हैं। समस्या का समाधान किसी को नजर नहीं आ रहा। जेट एअरवेज का यह संकट विजय माल्या की कंपनी किंगफिशर की याद दिलाता है। किंगफिशर भी ऐसे ही संकट में फंसी थी और उसका क्या हश्र हुआ, किसी से छिपा नहीं है। किंगफिशर के बंद होने पर हजारों लोग बेरोजगार हो गए थे, कर्मचारियों को वेतन व अन्य बकाया का भुगतान तक नहीं हुआ और कंपनी पर बैंकों का नौ हजार करोड़ से ज्यादा कर्ज चढ़ गया। आज विजय माल्या पकड़ से बाहर है और बैंकों का पैसा मिल भी पाएगा या नहीं, कोई नहीं जानता।

यह भी पढ़े -

लोकसभा चुनाव 2019: लालकृष्ण आडवाणी के बाद अब मुरली मनोहर जोशी का भी टिकट कटा, नाराज BJP सांसद ने खुद पत्र लिखकर दी जानकारी,जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक http://uvindianews.com/news/lok-sabha-elections-2019-after-l-k-advani-now-the-ticket-was-cut-by-murli-manohar-joshi-angry-bjp-mp-wrote-himself-a-letter

अब जेट एअरवेज भी इसी रास्ते पर है। इस कंपनी पर भी आठ हजार करोड़ से ज्यादा का कर्ज है, कर्मचारियों को वेतन नहीं मिल रहा, कंपनी बैंकों का कर्ज और लीज पर विमान देने वाली कंपनियों का पैसा नहीं चुका पा रही है। जेट में चौबीस फीसद हिस्सेदारी अबू धाबी की एतिहाद एअरलाइंस की है, लेकिन जेट एअरवेज की मदद के प्रस्ताव पर एतिहाद पीछे हट गई है। ऐसे में सरकार के दबाव में बैंकों का समूह जेट में अपनी हिस्सेदारी खरीद कर मदद देता भी है तो यह बैंकों के लिए बड़ा जोखिम होगा। सवाल है कि जर्जर हो चुकी जेट को ऐसे बेलआउट से कितने दिन और आॅक्सीजन दी जा सकेगी! जेट एअरवेज के मौजूदा संकट से विमान यात्री मुश्किल में हैं। आए दिन उड़ानें रद्द हो रही हैं। कंपनी न तो कोई वैकल्पिक सेवा मुहैया करवा रही है, न लोगों के पैसे लौटा रही है। इसमें बड़ी संख्या उन लोगों की भी है जिन्होंने कंपनी के विशेष पैकेज के तहत कई महीने पहले बुकिंग करा ली थी। लेकिन अब इन लोगों का पैसा नहीं लौटाया जा रहा। जेट के विमानों की सुरक्षा का मुद्दा भी चिंताजनक है। कहा जा रहा है कि ज्यादातर विमान सुरक्षा संबंधी मानकों को पूरा नहीं कर रहे। जेट और किंगफिशर के हालात बताते हैं कि भारत के विमानन क्षेत्र को भी वही रोग लग गया है, जिसके शिकार देश के ज्यादातर सार्वजनिक उपक्रम हो चुके हैं।

यह भी पढ़े -

नोएडा: चेकिंग के दौरान BMW कार से बरामद हुई लाखों की विदेशी करेंसी,जानने के लिए इस लिंक पर http://uvindianews.com/news/noida-during-the-checking-millions-of-foreign-currency-from-the-bmw-car-recovered

आपकी राय !

आपको क्या लगता है कि इस महीने COVID -19 के संबंध में क्या होगा ?

मौसम